0 1 min 5 mths

देश के विकासात्मक परिवर्तन के लिए ग्रामीण क्षेत्रों से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक प्रभावी नेतृत्व आवश्यक है। देश हित में लोकतंत्र को मजबूत कर हर क्षेत्र में लोगों को त्वरित न्याय सुनिश्चित करने के लिए संवेदनशील लोक प्रशासन की आवश्यकता है। इसके लिए प्रभावी एवं संवेदनशील जन प्रतिनिधियों का चयन जरूरी है। यह अवसर मतदाताओं को मतदान के माध्यम से मिलता है।

राष्ट्रीय मतदाता दिवस 25 जनवरी को मनाया जाता है। यह दिन प्रत्येक भारतीय मतदाता, नागरिक के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। इस दिन भारत के प्रत्येक नागरिक को अपने देश के प्रत्येक चुनाव में भाग लेने और अपनी जिम्मेदारी निभाने की शपथ लेनी चाहिए। क्योंकि भारत के हर मतदाता का वोट ही देश के भविष्य की नींव रखता है। इसलिए राष्ट्र निर्माण में हर व्यक्ति की राय अमूल्य है। भारत जैसे दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में मतदान प्रतिशत में गिरावट के रुझान को देखते हुए मतदाताओं के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाया जाता है। National Voters’ Day

भारत का चुनाव आयोग भारत में होने वाले प्रत्येक चुनाव के सुचारू संचालन के लिए जिम्मेदार है। भारत निर्वाचन आयोग की स्थापना 25 जनवरी 1950 को हुई थी। मतदान के प्रति दिन-ब-दिन बढ़ती उदासीनता और मतदान के घटते प्रतिशत के कारण चुनावों में लोगों की सक्रिय भागीदारी बढ़ाने के लिए भारत सरकार ने 2011 से 25 जनवरी को भारत निर्वाचन आयोग के स्थापना दिवस को ‘राष्ट्रीय मतदाता दिवस’ के रूप में मनाना शुरू किया।

सरकार और विभिन्न सामाजिक संगठनों द्वारा कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं ताकि अधिक से अधिक लोग देश की राजनीतिक प्रक्रिया में भाग ले सकें और नागरिकों को उनके कर्तव्यों के प्रति जागरूक कर सकें। मतदाता जागरूकता रैली निकाली गयी. यह नागरिकों को राष्ट्र के प्रति उनके कर्तव्य की याद दिलाता है। देश के लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए सभी मतदाताओं को मतदान प्रक्रिया में भाग लेने की जरूरत है। तभी सच्चा प्रतिनिधित्व देश के सामने आएगा। चूंकि बहुत से लोग वोट नहीं देते हैं, इसलिए उन्हें यह एहसास नहीं होता कि उन्होंने देश को मिलने वाला प्रतिनिधि कैसा है।

इसी प्रकार, मतदाताओं का एक वोट भी प्रतिनिधित्व बदल सकता है। इसलिए, भारत में प्रत्येक मतदाता को देश के मामलों का प्रबंधन करने वाले प्रतिनिधि का चुनाव करते समय सही व्यक्ति को चुनने के लिए मतदान प्रक्रिया में सक्रिय रूप से भाग लेने की आवश्यकता है। भारत के संविधान द्वारा मतदाताओं को दिया गया वोट का अधिकार अनमोल है। इसलिए प्रत्येक मतदाता को देश को विकास के पथ पर ले जाने और मतदान के अधिकार का सोच-समझकर उपयोग कर देश की प्रगति को प्राप्त करने के लिए जागृत होना चाहिए।

18 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुका प्रत्येक नागरिक मतदाता है। अत: 18 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुके प्रत्येक व्यक्ति को अपना पंजीकरण मतदाता के रूप में कराना चाहिए। जिससे देश के मतदाता देश के भविष्य के लिए एक प्रभावी प्रतिनिधि चुनेंगे। जिससे मतदाताओं की उम्मीदें पूरी होंगी और देश का विकास होगा. देश के कुल मतदाताओं में युवाओं का बड़ा हिस्सा है। इसलिए युवाओं को देश के उज्ज्वल भविष्य के लिए अधिक से अधिक भाग लेकर स्वतंत्रता, समानता, बंधुत्व और न्याय के लोकतांत्रिक मूल्यों को मजबूत करने का प्रयास करना चाहिए। इसके लिए हर स्तर से प्रयास जरूरी है। मतदान प्रक्रिया में मतदाताओं की भागीदारी को अधिकतम करना, साथ ही देश के लिए सही प्रतिनिधि चुनने के लिए मतदाताओं को वोट देना राष्ट्रीय मतदाता दिवस का उद्देश्य है. इस उद्देश्य को प्राप्त करने और देश में निष्पक्ष चुनाव कराकर भारतीय लोकतंत्र को मजबूत करने में भारत निर्वाचन आयोग का यह एक महत्वपूर्ण योगदान है।

चुनाव आयोग ने गांवों में 18 वर्ष की आयु पूरी कर चुके नये मतदाताओं के पंजीकरण की सुविधा उपलब्ध करायी है. साथ ही ऑनलाइन आवेदन करने की सुविधा भी उपलब्ध करायी गयी है. अत: 18 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुके व्यक्ति को मतदाता के रूप में अपना पंजीकरण कराना चाहिए। साथ ही आने वाले प्रत्येक चुनाव में अनिवार्य रूप से मतदान करने का हमारा कर्तव्य पूरा होना चाहिए। 2024 चुनावी साल है. इस साल लोकसभा, विधानसभा और जिला परिषद-पंचायत समिति के चुनाव होंगे. इसलिए जो लोग 18 वर्ष की आयु तक पहुंच गए हैं उन्हें मतदाता के रूप में पंजीकृत होना चाहिए। आज राष्ट्रीय मतदाता दिवस के अवसर पर देश के प्रत्येक मतदाता को अपनी सक्रिय भागीदारी और संवैधानिक दायित्व के निर्वहन के आधार पर लोकतंत्र को मजबूत करने का संकल्प लेना चाहिए। -मच्छिन्द्र ऐनापुरे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *