0 1 min 6 mths

पहली औद्योगिक क्रांति ग्रेट ब्रिटेन में शुरू हुई जबकि दूसरी औद्योगिक क्रांति मुख्य रूप से ब्रिटेन, अमेरिका, जर्मनी, इटली और जापान में शुरू हुई। 1870 से 1914 तक की अवधि, यानी अमेरिकी गृहयुद्ध की समाप्ति से प्रथम विश्व युद्ध की शुरुआत तक, इतिहासकारों द्वारा दूसरी क्रांति का काल माना जाता है। लेकिन यहां यह ध्यान रखना चाहिए कि दूसरी क्रांति के कुछ बीज पहली क्रांति या दोनों क्रांतियों के बीच की अवधि के दौरान निहित थे। Artificial Intelligence – Industrial Revolution – Britain – America – Germany – Italy – Japan

द्वितीय औद्योगिक क्रांति को तकनीकी क्रांति माना जाता है। विशेष रूप से, इस्पात, बिजली उत्पादन और रसायन जैसे तीन क्षेत्रों ने इस अवधि के दौरान बड़ी छलांग लगाई। इस्पात निर्माण में नई तकनीकों से इस्पात उत्पादन में तेजी आई और लागत कम हो गई। इसलिए उन सभी क्षेत्रों में तेजी आई जहां स्टील का उपयोग किया जा रहा था। उदाहरण के लिए, दो क्षेत्र रेलवे और जहाज निर्माण हैं। रेलवे का एक बड़ा नेटवर्क तैयार किया गया। इसके अलावा स्टील के उपयोग से बड़े और तेज़ जहाज़ बनाना आसान हो गया। जैसे-जैसे यात्री यातायात में वृद्धि हुई, इसने विनिर्मित वस्तुओं के लिए एक बड़ा बाजार तैयार किया और उत्पादकता और उत्पादन दोनों में भारी वृद्धि हुई।

बिजली उत्पादन और पारेषण में सुधार के कारण विभिन्न क्षेत्रों में बिजली का उपयोग शुरू हुआ। सबसे हालिया क्षेत्र टेलीग्राफी, टेलीफोन और रेडियो थे। इससे सूचना आदान-प्रदान और संदेश-सेवा में आमूल-चूल परिवर्तन आया। एक अन्य महत्वपूर्ण परिवर्तन 1879 में विद्युत लैंप का आविष्कार था।

दूसरी औद्योगिक क्रांति के दौरान, रासायनिक विनिर्माण में घोड़ों की दौड़ शुरू हुई। विभिन्न सिंथेटिक रसायन, रासायनिक उर्वरक, कृत्रिम रंगद्रव्य, विस्फोटक, एस्पिरिन जैसे औषधीय पदार्थों की बड़े पैमाने पर खोज की गई और कई क्षेत्रों में उत्पादन में वृद्धि हुई। रसायन विज्ञान के क्षेत्र में इस युग के सबसे महत्वपूर्ण आविष्कारों में से एक और मानव जीवनशैली पर दूरगामी प्रभाव 1907 में प्लास्टिक की खोज थी। यह आविष्कार, जो उस समय और अब भी वरदान प्रतीत होता था, आज प्रदूषण की महामारी का एक प्रमुख हिस्सा है।

दूसरी औद्योगिक क्रांति ने सामाजिक व्यवस्था में बड़े बदलाव लाए। बड़े पैमाने पर लोगों का शहरों की ओर पलायन हुआ, शहर रोजगार और अर्थव्यवस्था के केंद्र बन गए और शहरीकरण के कारण आने वाली समस्याएं शुरू हो गईं।

पहली दो औद्योगिक क्रांतियाँ और तीसरी ‘डिजिटल क्रांति’

तीसरी औद्योगिक क्रांति पहली दो औद्योगिक क्रांतियों से काफी अलग थी। इस क्रांति का आधार ‘इलेक्ट्रॉनिक्स’, ‘सूचना और संचार प्रौद्योगिकी’ (आईसीटी) और परमाणु ऊर्जा थी। लेकिन चूंकि मुख्य जोर इलेक्ट्रॉनिक्स’ और ‘आईसीटी’ पर है, इसलिए इसे ‘निक्य क्रांति’ यानी डिजिटल क्रांति भी कहा जाता है। तीसरी औद्योगिक क्रांति द्वितीय विश्व युद्ध की समाप्ति के बाद यानी 1950 के दशक में शुरू हुई।

इस अवधि के दौरान डिजिटल प्रौद्योगिकी ने जीवन के सभी क्षेत्रों में प्रवेश किया। 1947 में बेल लेबोरेटरीज द्वारा ट्रांजिस्टर का आविष्कार, उसके बाद 1959 में एकीकृत सर्किट चिप का आविष्कार, और उसके बाद कई इलेक्ट्रॉनिक मशीनरी (हार्डवेयर) में खोजों से कंप्यूटिंग और संचार में बड़ी प्रगति हुई। मेनफ्रेम-कंप्यूटर, मिनी कंप्यूटर, माइक्रो-कंप्यूटर, पर्सनल-कंप्यूटर, सुपर-कंप्यूटर विभिन्न क्षेत्रों की आवश्यकताओं के अनुसार उपलब्ध होने लगे। घरों से लेकर स्कूलों तक, विज्ञान और प्रौद्योगिकी की कठिन समस्याओं को हल करने के लिए उनका उपयोग किया जाता था। कम्प्यूटेशनल आवश्यकताएँ बढ़ीं और कंप्यूटर प्रोसेसिंग क्षमता और डेटा भंडारण क्षमता हजारों गुना बढ़ गई। धीरे-धीरे इसका आकार छोटा होता गया और कीमत आम आदमी की पहुंच में आ गई।

इसे इंटरनेट द्वारा समर्थित किया गया था। 1969 में ‘अर्पानेट’ के रूप में शुरू हुए इंटरनेट ने कंप्यूटरों को एक-दूसरे से जोड़ा और ज्ञान का आदान-प्रदान शुरू किया। बाद में कृत्रिम उपग्रहों की सहायता से संचार प्रारम्भ हुआ। 1989 में वर्ल्ड वाइड वेब का आविष्कार हुआ और सूचनाओं का आदान-प्रदान शुरू हुआ। डिजिटल प्रौद्योगिकी में महत्वपूर्ण प्रगति के कारण, वेब ने जल्द ही एक विशाल रूप ले लिया। आप जो जानकारी चाहते हैं, जब चाहें, जहां चाहें, प्राप्त करना आसान हो गया और सूचनाओं का एक बड़ा विस्फोट हुआ। तीसरी क्रांति के दौरान आईसीटी ने जीवन के सभी क्षेत्रों को कवर किया। उत्पादन के तरीके, वितरण, शिक्षा, मनोरंजन, अर्थशास्त्र, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, चिकित्सा और स्वास्थ्य, प्रबंधन, परिवहन, प्रसारण, आदि, संक्षेप में कहें तो डिजिटल क्रांति ने संपूर्ण जीवन को मौलिक रूप से बदल दिया है।

इस क्रांति ने सामाजिक व्यवस्था और अर्थव्यवस्था को पूरी तरह से बदल दिया। जबकि वैश्वीकरण के परिणामस्वरूप अन्य क्षेत्रों में नौकरियाँ खत्म हो गई हैं, विशेष रूप से कंप्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर क्षेत्रों में, बड़े पैमाने पर रोजगार सृजन हुआ है। इंटरनेट पर वस्तुओं या सेवाओं की ऑन-डिमांड आपूर्ति शुरू हुई। कई क्षेत्रों में बड़े बदलाव हुए तो कुछ क्षेत्र नए सिरे से उभरे।3

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रदूषण उत्पाद खीरा चाय बीमा पति कीट