0 1 min 5 mths

लोकसभा चुनाव का बिगुल जल्द ही बज जाएगा। चुनाव आयोग भी तैयार है. राजनीतिक दलों ने अपनी बांहें फैला दी हैं. पार्टी प्रवेश हो रहे हैं. इस साल मतदान प्रतिशत बढ़ाने का चुनाव आयोग का अभियान सफल रहा है. नये 2.63 करोड़ मतदाता पंजीकृत किये गये हैं. इस में महिला मतदाताओं (1.41 करोड़) की संख्या पुरुष मतदाताओं (1.22 करोड़) से अधिक है.

भारत निर्वाचन आयोग ने हाल ही में 1 जनवरी 2024 तक देश में मतदाताओं की संख्या की घोषणा की है। इसके मुताबिक, आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव में 96.88 करोड़ मतदाता सत्ताधारियों की किस्मत का फैसला करेंगे. चुनाव आयोग ने हाल ही में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के लिए मतदाता आंकड़े जारी किए। चुनाव आयोग ने जम्मू कश्मीर और असम में मतदाताओं की गिनती भी पूरी कर ली है.

चुनाव आयोग द्वारा जारी एक रिपोर्ट के मुताबिक, देश में महिला मतदाताओं की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है। कुल 2.63 करोड़ पंजीकृत नए मतदाताओं में से 1.41 करोड़ महिला मतदाता हैं। जबकि पुरुष नये मतदाताओं की संख्या 1.22 करोड़ है. 2023 में, प्रत्येक 1,000 पुरुष मतदाताओं पर महिला मतदाताओं की संख्या 940 थी। 2024 में यह 948 हो गई है.

युवा मतदाताओं में उल्लेखनीय वृद्धि

नई सूची के मुताबिक 18-19 और 20-29 आयु वर्ग के युवा मतदाताओं की संख्या में दो करोड़ से ज्यादा का इजाफा हुआ है. चुनाव आयोग ने देश भर में युवा मतदाताओं के पंजीकरण के लिए एक विशेष अभियान की योजना बनाई थी। यह पंजीकरण इस उद्देश्य से किया गया था कि युवा राष्ट्र निर्माण में अपना योगदान दें। इस उद्देश्य के लिए निर्वाचन क्षेत्रवार विशेष सहायक मतदाता पंजीकरण अधिकारियों को नियुक्त किया गया था। शिक्षण संस्थानों में जाकर शिक्षा प्राप्त की गई। उस अभियान का उद्देश्य प्राप्त हो गया है और युवा मतदाताओं की संख्या में उल्लेखनीय वृद्धि हुई है।

दिव्यांग मतदाताओं को चुनावी प्रक्रिया में भाग लेने में सक्षम बनाने के लिए विशेष प्रयास किए गए। इस हिसाब से वोटर लिस्ट में कुल 88.38 लाख दिव्यांग मतदाता हैं.

मतदाता पंजीकरण के लिए 18 वर्ष की आयु आवश्यक है। हालाँकि, चुनाव आयोग ने 17 वर्ष की आयु पूरी करने वाले युवा मतदाताओं को पहले से पंजीकृत कर लिया है। उसके लिए करीब 10.64 लाख आवेदन मिले थे. तदनुसार, उन्हें 1 अप्रैल, 1 जुलाई और 1 अक्टूबर की योग्यता तिथियों पर शामिल किया जाएगा।

मतदाताओं का सत्यापन

इस अभियान के दौरान मृत, डुप्लीकेट, शहर से बाहर रहने वाले मतदाताओं की जानकारी जुटाई गई। इस हिसाब से 1 करोड़ 65 लाख 76 हजार 654 वोटर कम हो गये. इस स्थायी प्रवास में दोहरे नाम कम हो गये। इसमें 67 लाख 82 हजार 642 मृत मतदाताओं को बाहर कर दिया गया. 75 लाख 11 हजार 128 मतदाता या तो पलायन कर गये या बताये गये पते पर नहीं मिले. 22 लाख 5 हजार 685 डुप्लीकेट वोटरों के नाम हटाये गये. आदिवासी बाहुल्य संभाग में शत-प्रतिशत मतदाता पंजीकरण भी पूरा हो गया।

वर्गीकरण – मतदाताओं की संख्या

कुल मतदाता -96,88,21,926

पुरुष मतदाता -49,72,31,994

महिला मतदाता- 47,15,41,888

तीसरे पक्ष के मतदाता – 48,044

दिव्यांग मतदाता- 88,35,449

18-19 आयु वर्ग के मतदाता -1,84,81,610

20-29 आयु वर्ग -19,74,37,160

80 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के मतदाता- 1,85,92,918

सौ का आंकड़ा पार करने वाले 2,38,791 मतदाता

पुरुष मतदाता सांख्यिकी 2019 से 2024

2019                46.47 करोड़

2020             47.5 करोड़

2021                48.29 करोड़

2022             48.99 करोड़

2023             48.89 करोड़

2024             49.72 करोड़

महिला मतदाता सांख्यिकी 2019 से 2024

2019                43.13 करोड़

2020             44.27 करोड़

2021                45.15 करोड़

2022             46.04 करोड़

2023             45.97 करोड़

2024             47.15 करोड़

युवा मतदाता सांख्यिकी 2019-2024

2019                1.50 करोड़

2020              1.56 करोड़

2021                1.24 करोड़

2022             1.34 करोड़

2023             1.32 करोड़

2024             1.85 करोड़

पिछले चुनाव में 91.19 करोड़ वोटर

2019 के लोकसभा चुनाव में 91 करोड़ 19 लाख 50 हजार 734 मतदाता (सेवा मतदाताओं सहित) पंजीकृत थे। इनमें 47 करोड़ 33 लाख 73 हजार 748 पुरुष मतदाता, 43 करोड़ 85 लाख 37 हजार 911 महिला मतदाता और 39 हजार 75 अन्य मतदाता हैं. वास्तविक मतदान केंद्र पर मतदान करने वालों की संख्या 31 करोड़ 72 लाख 46 हजार 297 पुरुष, 29 करोड़ 46 लाख 24 हजार 323 महिलाएं और 5 हजार 721 अन्य थी. कुल 61 करोड़ 18 लाख 76 हजार 971 मतदाताओं ने मतदान किया. मतदान प्रतिशत 67.1 फीसदी रहा.

65 लाख पर ‘नोटा’

2019 के चुनाव में ईवीएम पर पड़े कुल वोटों में से स्वीकृत वोटों की संख्या 60 करोड़ 53 लाख 72 हजार 886 थी. प्राप्त डाक मत के अनुसार यह 22 लाख 77 हजार 165 था. ईवीएम पर दर्ज नोटों की कुल संख्या 65 लाख 500 थी. जबकि पोस्टल वोटों में ‘नोटों’ की संख्या 22 हजार 272 थी.

आठ हजार उम्मीदवार मैदान में थे

2019 के चुनाव में कुल 8 हजार 54 उम्मीदवार मैदान में थे. इनमें 7 हजार 322 पुरुष, 726 महिलाएं और 6 अन्य थे। इनमें विजयी उम्मीदवारों में 465 पुरुष और 78 महिलाएं थीं। 6 हजार 923 उम्मीदवारों की जमानत जब्त हो गई. इसमें 6 हजार 342 पुरुष अभ्यर्थी थे. जबकि महिला उम्मीदवार 575 और अन्य 6 थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रदूषण उत्पाद खीरा चाय बीमा पति कीट