0 1 min 2 mths

इस मौसम की एक खास बात यह है कि अनेक प्रकार की सब्जियां बाजार में उपलब्ध हैं। खासकर हरी सब्जियां शरीर की आवश्यकता के अनुसार उचित पोषक तत्व मुहैया कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। मजेदार बात यह है कि अधिकतर सब्जियों की कीमत भी कम होती है। विटामिनों की कमी को दूर करना हो या रोगों से लड़ना हो, ये सब इस मौसम में किया जा सकता है। इस लिहाज से यह मौसम स्वास्थ्य लाभ करने के लिए भी उपयुक्त है।

हरी सब्जियां

हरी सब्जियां शरीर को स्वस्थ बनाए रखती है, वहीं कच्चे रूप में हरी सब्जियों का इस्तेमाल करना भी सेहत के लिए काफी लाभदायक है। पालक में विटामिन ए, आयरन, एंटीआक्सीडेंट्स जैसे पोषक तत्व पर्याप्त मात्रा में मिलता है। पालक में विटामिन सी और आयरन अच्छी मात्रा में पाया जाता है जिससे शरीर का मेटाबालिज्म ठीक रहता है जिससे शरीर की केलौरी तेजी से बर्न होती है। पालक का ग्लाइकेमिक इंडेक्स स्तर कम होता है जो कि शरीर में ग्लूकोज का स्तर सामान्य रखने में कारगर है। आंखों की कमजोरी, खून की पूर्ति और बाल झड़ने में पालक का सेवन काफी लाभदायक है। मेथी में विटामिन ए की मात्रा अधिक पाई जाती है। गठिया के रागियों के लिए इसका सेवन काफी लाभदायक है। मेथी के सेवन से आंखों की रोशनी बढ़ती है, शरीर में दर्द से छुटकारा मिलता है।

लौकी और तोरी

लौकी और तोरी का सेवन करने से डाइजेस्टिव सिस्टम ठीक रहता है। चिकित्सक बताते हैं कि नियमित सेवन से भोजन जल्दी पचता है, पेटसाफ रहता है। इतना ही नहीं लौके छिलके के भी काफी फायदे है, लौकी के छिलके से चेहरा साफ रहता है।

पुदीना और हरा धनिया

पुदीना और हरा धनिया एक ओर जहां खाने में स्वाद बढ़ता है वही सेहत के लिए भी यह काफी लाभदायक है। पुदीना व हरा धनिया में विटामिन ए भरपूर मात्रा में होता है। पुदीना का अर्क उल्टी-दस्त होने पर काफी लाभदायक होता है। पुदीने की भाप लेने से जुकाम में फायदा मिलता है। पुदीने और तुलसी के पत्ते को पीसकर पेस्ट को चेहरे पर लगाने से मुहांसों की समस्या दूर होती है।

मूली और गाजर

मूली के अनेक फायदे हैं। मूली खाने से दांत मजबूत होते है। मूली के पत्तों में विटामिन ए पर्याप्त मात्रा में मिलता है। मूली का रस पीला वाले रोगी के लिए लाभदायक माना जाता है। वही गाजर में सभी विटामिन व बीटा कैरोटिन अत्याधिक मात्रा में मिलती है। गाजर का सेवन सेहत के लिए काफी लाभदायक माना जाता है। गाजर दिमागी शक्ति बढ़ाती है तथा आंखों की दृष्टि को बढ़ाने में काफी कारगर है। चिकित्सक आंखों की दृष्टि बढाने के लिए सदियों में गाजर का जूस पीने की सलाह इसीलिए देते हैं। अल्सर में भी गाजर का सेवन लाभकारी माना जाता है।

गोभी

फूलगोभी में प्रोटीन, फास्फोरस, लौह तत्व, पोटेशियम, गंधक, नियासीन और विटामिन सी आदि तत्व अधिक मात्रा में पाए जाते हैं। गोभी में गंधक एवं क्लोरीन घटकों की मात्रा अधिक होती है, जिसके कारण यह शरीर की गंदगी साफ करने का काम करती है। फूलगोभी में सलफोराफीन रसायन दिल के लिए काफी फायदेमंद होता है। गोभी में कुछ ऐसे तत्व एवं घटक हैं, जो मानव में रोग प्रतिकार शक्ति को बढ़ाते हैं एवं समय से पहले आने वाली वृद्धावस्था को रोकते हैं। गोभी में मौजूद टारटेनिक नामक एसिड चर्बी, शकरा एवं अन्य पदार्थों को इकट्ठा होने से रोकता है।

आलू

आलू पौष्टिक तत्वों से भरपूर होता है। इसका मुख्य पौष्टिक तत्व स्टार्च होता है। इसमें कुछ मात्रा उच्च जेविक मान वाले प्रोटीन की भी होती है। आलू क्षारीय होता है, इसलिए यह शरीर में क्षारों की मात्रा बढ़ाने या उसे बरकरार रखने में बहुत सहायक होता है। यह शरीर में ऐसीडोसिस भी नहीं होने देता। आलू में सोडा, पोटाश और विटामिन ‘ए’ तथा ‘डी’ भी पर्याप्त मात्रा में पाए जाते हैं। आलू का सबसे अधिक महत्वपूर्ण पौष्टिक तत्व विटामिन सी है। आलू का यदि कोइ भाग हरा रह गया है तो उसे काटकर निकाल देना चाहिए, क्योंकि उसमें सोलेनाइन नामक विषैला पदार्थ होता है। इसके अतिरिक्त यदि आलू में अंकुर आ गए हों, तो अंकुरित भाग काटकर निकाल देना चाहिए और उसे प्रयोग में नहीं लाना चाहिए।

सर्दियों में बेस्ट है सब्जियों का सूप

कपकपाती ठंड और ऐसे में गर्मागरम सूप का सेवन करना ठंड का मजा कई गुणा बढ़ा देता है। सूप के सेवन से सदियों में होने वाली कई प्रकार की बिमारियों से भी छुटकारा मिल जाता है। यह शरीर के डाइजेस्टिव सिस्टम को भी स्ट्रोंग बनाने में काफी सक्रिय भूमिका निभाता है। सूप उन लोगों के लिए भी अच्छा विकल्प है जो कि कम कैलोरी वाला पेय पदाथ का सेवन करना चाहते हैं। सर्दियों में वेजिटेबल सूप काफी लाभदायक माना जाता है। वेजिटेबव सूप विटामिन्स और मिनरल्स से भरपूर होने के कारण शरीर को हर प्रकार के पोषक तत्व मुहैया कराते हैं।

सब्जियों के जूस के भी है कई फायदे

सर्दियों में मौसमी सब्जियों के जूस का सेवन करने के भी कई फायदें है।ब्रेकफास्ट में यदि आप जूस का सेवन करते है तो आप दिनभर एनर्जेटिक बने रहेंगे। जो भी सब्जी या फल आपको पसंद हो, आप उसका जूस बनाकर ले सकते हैं | सर्दियों में टमाटर का जूस पीना काफी फायदेमंद माना जाता है। इसमें केल्शियम, फास्फोरस, क्लोरीन, सोडियम आदि तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। यह शरीर में हिमाग्लोबिन लेवल तो बढ़ाता ही है साथ ही वजन कम करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। मूली का जूस भी सदियों में रामबाण माना जाता है। मूली के जूस का सेवन करने से चेहरे की झुर्रियों और कील मुंहासों से छुटकारा मिलता है। गाजर का जूस भी सदियों में काफी फायदेमंद माना जाता है। इसमें विटामिन ए,बी, सी के अलावा कैल्शियम, जिंक, सोडियम आदि कई खनिज तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। गाजर के जूस का सेवन करने से शरीर को भरपूर ऊर्जा तो मिलती ही है साथ आंखों की रोशनी भी बढती है।

मिक्स वेज सूप बनाते वक्त इन सब्जियों को दे प्राथमिकता

अक्सर मिक्स वेज सूप बनाते वक्त अगर आप कॉबिनेशन का ध्यान रखकर सूप बनाएंगें तो ये ज्यादा पोष्टिक और स्वादिष्ट बनेगा। हरी सब्जियां जैसे पालक, मैथी, बथुवा आदि का सूप एक साथ मिलाकर बनाएं। इस सूप से शरीर में खून की नलिकाओं को साफ रखने में काफी मदद मिलती है। मिक्स वेजिटेबल सूप के साथ यदि आप कॉर्न या ब्रोकली मिलाते है तो यह बच्चों का पंसदीदा सूप बन सकता है। पालक, ब्रोकली, हरा प्याज, बंदगोभी, बींस, लेमनग्रास आदि कॉबिनेशन वाला सूप भी कोलेस्ट्रोल घटाने में काफी मददगार होता है । डायबिटीज पेशेंट के लिए यह कॉबिनेशन सबसे परफेक्ट माना जाता है। यदि ग्रीन वेजिटेबल्स के साथ आप सूखे हर्ब का इस्तेमाल कर सूप बनाते है तो यह जोडों के दर्द में काफी आराम पहुंचाएगा। टमाटर, प्याज और गाजर को मिलकर बनाए गए सूप से आंखों की रोशनी बढ़ती है और शरीर में हिमोग्लोबिन का लेवल भी बढ़ता है।

रेडीमेड सूप को कहें ना

आजकल बाजार में रेडीमेड सूप भी मौजूद है। अधिकांश लोग समय की बचत के लिए रेडीमेड सूप खरीदकर लाते हैं और उसका सेवन करते हैं।मगर रेडीमेड सूप में पौष्टिक तत्व नाममात्र को होते हैं। कोशिश करें कि घर पर ही ताजी सब्जियों का जूस बनाएं। ताजा सूप फाइबरयुक्त होता है जोकि कोलेस्ट्रोल घटाने में मदद करता है।

(साभार-जनवाणी )

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *