बच्चे
0 1 min 2 weeks

बच्चे पढ़ते नहीं? बच्चे पढ़ाई नहीं करते, लगातार मोबाइल पर लगे रहते हैं, ज्यादा देर तक एक जगह बैठ कर पढ़ाई नहीं करते, काफी देर तक पढ़ाई करने के बाद भी उन्हें याद नहीं रहता, बच्चे पढ़ाई पर ध्यान नहीं देते. ज्यादातर अभिभावकों की यही शिकायत रहती है। लेकिन, आयुर्वेद विशेषज्ञों का कहना है कि बच्चों की एकाग्रता बढ़ाने के लिए कुछ बातों पर ध्यान देना चाहिए. ऐसे बच्चों के लिए चतुः सूत्र है और यदि माता-पिता और बच्चे इसका पालन करते हैं, तो इससे निश्चित रूप से बच्चों की एकाग्रता और बौद्धिक क्षमता में वृद्धि होगी। ‘

अब अपने देशभर के स्कूल और कॉलेज शुरू हो गए हैं और अभी से माता-पिता यह उम्मीद कर रहे हैं कि उनके बच्चे अच्छे से पढ़ेंगे और स्कूल और कॉलेज में नंबर लाएंगे। माता-पिता के लिए जरूरी है कि वे उस अपेक्षा के बोझ तले जी रहे छात्रों की समस्याओं को समझें और उनकी एकाग्रता, समझ और बौद्धिक क्षमता को कैसे बढ़ाएं। इसके लिए रोजाना संतुलित आहार, पर्याप्त नींद, घर का माहौल खुशनुमा रखना जैसे उपाय करने चाहिए। उसे मोबाइल से दूर रखना भी एक बहुत ही महत्वपूर्ण बिंदु है।

इसमें अभिभावकों की बहुत बड़ी जिम्मेदारी है. अगर बच्चों की एकाग्रता और ग्रहण करने की क्षमता बढ़ती है तो निश्चित ही उसे पढ़ाई में कोई दिक्कत नहीं आती है। इसके लिए उसे पहले अवधारणा को समझना होगा। 45 मिनट के अंतराल में दस मिनट का विश्राम लिया जा सकता है। पर्याप्त नींद, संतुलित आहार, योग, ध्यान से भी बहुत लाभ होता है।

बच्चे

ऐसा है चतुः सूत्र

दैनिक भोजन में संतुलित आहार

विद्यार्थियों का दैनिक आहार संतुलित होना चाहिए। इसमें प्रोटीन और विटामिन होना चाहिए। आहार में घी, दालें, बादाम, दालें विशेषकर टूटी हुई दालें, गुड़ और शेंगा के लड्डू, अंडे, फल और सब्जियां शामिल होनी चाहिए। विद्यार्थियों में ‘एनीमिया’ की समस्या बड़ी मानी जाती है। इसलिए उसका पढ़ाई में ध्यान नहीं लगता. ऐसे में गुड़ और शेंगा के लड्डू का रोजाना सेवन निश्चित रूप से ‘एनीमिया’ को कम करने में मदद करता है।

ये भी पाढे: beautiful and attractive: पेंगुइन: खूबसूरत, आकर्षक और 1 मात्र बर्फीले इलाकों में पाए जानेवाला पक्षी  https://express24news.in/%e0%a4%aa%e0%a5%87%e0%a4%82%e0%a4%97%e0%a5%81%e0%a4%87%e0%a4%a8-%e0%a4%96%e0%a5%82%e0%a4%ac%e0%a4%b8%e0%a5%82%e0%a4%b0%e0%a4%a4-%e0%a4%aa%e0%a4%95%e0%a5%8d%e0%a4%b7%e0%a5%80/

रटकर पढ़ाई करने के बजाय विषय को समझें

अधिकांश छात्र वार्षिक या इंटर-स्कूल-कॉलेज परीक्षाओं के दौरान पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करते हैं। लेकिन, पढ़ाई मगफिरत से नहीं होती. इसके लिए पाठ या संकल्पना-विषय को ठीक से समझना होगा। इसके लिए शिक्षकों और अभिभावकों का मार्गदर्शन जरूरी है. कुछ विषयों का ज्ञान व्याख्यान के बजाय प्रदर्शन के माध्यम से दिया जा सकता है, ताकि छात्र विषय को आसान तरीके से समझ सकें। बच्चों को घूमने ले जाना चाहिए. यदि माता-पिता अपने बच्चों को बचपन से ही हर चीज में शामिल करते हैं, तो इससे उनकी संज्ञानात्मक क्षमताओं को बढ़ाने में बहुत मदद मिलती है।

45 मिनट के बाद दस मिनट का ब्रेक लें

रटकर पढ़ाई करना और लिखना सदैव संभव नहीं होता। कभी-कभी प्रदर्शन के माध्यम से भी व्यक्ति उस कठिन अवधारणा, विषय को समझ सकता है। इस बीच, मनोचिकित्सकों के अनुसार, हमारा मस्तिष्क 45 मिनट से अधिक समय तक एक जगह पर स्थिर नहीं रह सकता है। इसलिए काम या पढ़ाई के दौरान हर 45 मिनट में पांच-दस मिनट का ब्रेक लेना फायदेमंद होता है। लेकिन, ऐसे में पढ़ाई में रुचि भी अहम हो जाती है.

बच्चे

सात से आठ घंटे की पर्याप्त नींद

विद्यार्थियों को प्रतिदिन कम से कम सात से आठ घंटे सोना चाहिए। यह योजना बनाना जरूरी है कि रात को 10 से 10:30 बजे तक सोना चाहिए। हर किसी को 10:00 से 6:00 या 10:30 से 6:30 के बीच सोना चाहिए। आयुर्वेद में ब्राह्मी मुहूर्त का बहुत महत्व है और कहा जाता है कि सुबह 5 से 5:30 बजे (सूर्योदय से कुछ मिनट पहले) के बीच किया गया काम या पढ़ाई हमेशा याद रहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

प्रदूषण उत्पाद खीरा चाय बीमा पति कीट